Powered by Blogger.

Search This Blog

Blog Archive

PageNavi Results Number

Featured Posts

PageNavi Results No.

Widget Random Post No.

Popular

Saturday, 23 February 2019

क्या भारतीय निवासियों को आखिरकार मोदी के असली रंग का एहसास हो गया है?

  Dilip Yadav       Saturday, 23 February 2019

हाल ही में मैं रूस गया था। स्थानीय लोगों के साथ बातचीत करते हुए, जो कि भाषा के कारण कठिन है, मैंने उनसे पूछा कि वे भारत के बारे में क्या जानते हैं।
What makes Narendra Modi stylish of all? (view pics)
उन्होंने कहा कि 2015 तक वे भारत को मित्रवत समझते थे लेकिन तीसरी दुनिया का बहुत पिछड़ा हुआ देश। उन्हें दुनिया में हमारे योगदान के इतिहास के बारे में भी कभी पता नहीं चला।
लेकिन उनमें से कम से कम 5 ने यह उल्लेख किया कि वे अब मोदी को जानते हैं। उन्होंने कहा कि जबकि वे जानते नहीं हैं कि उन्होंने वास्तव में क्या किया था, लेकिन जब से वे प्रधान मंत्री बने हैं, तब से भारत को रूस में कैसे देखा जाता है, इस पर महत्वपूर्ण बदलाव हुए हैं। उन्होंने कहा कि अब उन्हें पता चलता है कि भारत अब पिछड़ा नहीं है और एक सम्मानित दिग्गज है जिसकी आवाज़ मायने रखती है।
उन्होंने योग की प्रशंसा भी की। मेरे मार्गदर्शक एक योग प्रशिक्षक थे और गर्व महसूस करते हैं कि अब मोदी की वजह से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस है। वह लंबे समय तक एक योग प्रशिक्षक थे , लेकिन योग दिवस के कारण योग के बारे में जागरूकता के बाद ही उनकी कक्षाओं में अधिक लोग आने लगे हैं।
वे कहते हैं कि पुतिन शायद ही किसी विश्व नेता पर बहुत अधिक ध्यान देते हैं लेकिन उन्होंने जिस तरह से मोदी से बात की उसका कारण यही था कि ज्यादातर रूस वास्तव में मोदी और नए भारत का ध्यान रखते थे।
नीवेस्की स्क्वायर रोड, सेंट पीटर्सबर्ग में एक भारतीय रेस्टोरेंट का दौरा किया, उन्होंने कहा कि अब वहा अधिक रूसी ग्राहकों आते हैं। उसे लगता है कि यह मोदी की वजह से है।
आतंकवादियों पर भारतीय सेना के वर्तमान दृष्टिकोण का उल्लेख है- ठोक दो
अगर आतंकवादी हमारी सीमा के बाहर हैं, तो - “अनके घर में घुस कर ठोक दो!
कैमरे पर नेता कह सकते हैं कि वे सभी लोकतंत्र को बचाना चाहते हैं, लेकिन मैं जानना चाहता हूं कि ममता क्या बचा रही हैं? मैं जानना चाहता हूं कि मायावती और अखिलेश क्या बचा रहे हैं? वे इसे केवल अब एक साथ क्यों बचा रहे हैं? मोदी से पहले क्यों नहीं? चंद्र बाबू को क्या धमकी? क्या वामपंथियों ने धमकी दी है?
मैं आपको क्या बताऊँ। जो खतरा है, वह उनका अस्तित्व है। जो धमकी दी गई है वह उनके पैसे, शक्ति और विशेषाधिकारों का स्रोत है। इन सभी में कोई समान विचारधारा नहीं है, लेकिन वे अभी भी एक साथ आए हैं क्योंकि इन सभी में एक चीज समान है। सत्ता और पैसा।
logoblog

Thanks for reading क्या भारतीय निवासियों को आखिरकार मोदी के असली रंग का एहसास हो गया है?

Previous
« Prev Post

No comments:

Post a comment